Category Archives: गुजरात

कलेक्टर्स को अंतर्राज्यीय सीमाओं पर विशेष निगरानी के निर्देश

गृह विभाग ने सभी जिला कलेक्टर्स को निर्देश दिये हैं कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत अंतर्राज्यीय सीमा पर विशेष निगरानी रखी जाये और प्रदेश में आने वालों की ट्रेसिंग सुनिश्चित करें। उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को मुख्यमंत्री ने कोरोना समीक्षा बैठक में उक्त आशय के निर्देश दिये हैं।

आनंदी बेन पटेल की आज शपथ, मंत्रिमंडल का विस्तार भी संभव

मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन के अस्वस्थ होने की वजह से उत्तरप्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को मप्र के राज्यपाल का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है और वे बुधवार को भोपाल आ रही हैं।

1400 श्रमिक विशेष ट्रेन से मोरवी आज भोपाल पहुंचेंगे

कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी श्री तरुण पिथोड़े ने बताया कि आज मोरवी, गुजरात राज्य से 1400 श्रमिकों को लेकर एक विशेष श्रमिक ट्रेन 11 मई सोमवार को प्रातः 7 बजे भोपाल स्थित हबीबगंज रेलवे स्टेशन पहुंचेगी।

अन्य राज्यों के मप्र में फंसे मजदूरों को देगी लौटने की अनुमति

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लॉकडाउन के कारण अन्य राज्यों में फंसे मध्यप्रदेश के मजदूरों को सरकार मध्यप्रदेश वापस लाएगी। इसके लिए आवश्यक कार्यवाही की जाएगी। अन्य राज्यों से मजदूर प्रदेश वापस लाने के लिए मुख्यमंत्री चौहान ने उत्तरप्रदेश, राजस्थान, गुजरात एवं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों से चर्चा की है।

सूखे पत्तों, चीनी मिल से निकले गन्ने के चूरे से बनी थाली एवं मिट्टी के कुल्हड में पानी परोसा

मध्यप्रदेश शासन संस्कृति विभाग द्वारा अयोजित ‘लोकरंग’ रवीन्द्र भवन परिसर, भोपाल में आकर्षक व्यंजन मेले का भी है। पाक कला में माहिर विभिन्न राज्यों जनजातीय देशज के व्यंजनकार (मध्यप्रदेश की गोण्ड, कोरकू, बैगा और भील जनताति के साथ ग्यारह राज्यों मणिपुर, आसाम, सिक्किम, अरूणाचल, त्रिपुरा, लद्दाख, पश्चिम बंगाल, गुजरात, छत्तीसगढ़, झारखण्ड और उडीसा ) अपने व्यंजनों से का स्वाद दिला रहे हैं। यहॉं के खाने को परोसने की विशेषता यह कि ऐरिका-लीफ  पेड़ के सूखे पत्तों से बनाई गई थाली और चीनी मिल से निकले गन्ने के चूरे से बनी थाली एवं मिट्टी के कुल्हड में पानी परोसा जा रहा है। जिसके फलस्वारूप पर्यावरण स्वछता का संदेश दिया गया।

दीपक बाबरिया भोपाल पहुंचे, कांग्रेस नेताओं ने मुलाकात की

अभा कांग्रेस कमेटी के महासचिव व प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया बुधवार को भोपाल पहुंचे। वे यहां मोदी सरकार के खिलाफ प्रदेश और दिल्ली में आयोजित आंदोलन की रूपरेखा और तैयारियों के सिलसिले में आए हैं। बाबरिया इसको लेकर गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में बैठक लेंगे जिसमें मंत्रियों, विधायकों, प्रदेश के जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सहित अन्य जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है। इसमें भोपाल में मोदी सरकार के खिलाफ 25 नवंबर को आयोजित आंदोलन की तैयारियों और इसके बाद 14 दिसंबर को दिल्ली में होने वाले प्रदर्शन में प्रदेश की भागीदार को लेकर चर्चा की जाएगी। बाबरिया बुधवार को शाम को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय भी पहुंचे थे और वहां उनसे कुछ कांग्रेस नेताओं ने मुलाकात की।

राष्ट्रीय रेरा कॉन्क्लेव-2019 के अवसर पर रेरा चेयरपर्सन मीट” में शामिल

रेरा अध्यक्ष अंटोनी डिसा आज लखनऊ में आयोजित दो दिवसीय “प्रथम राष्ट्रीय रेरा कॉन्क्लेव-2019” के अवसर पर “रेरा चेयरपर्सन मीट” में शामिल हुये। इस अवसर पर सचिव केन्द्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय दुर्गा शंकर मिश्रा, उत्तरप्रदेश रेरा अध्यक्ष राजीव कुमार, गुजरात, ह‍रियाण, झारखण्ड, केरल सहित अन्य राज्यों के रेरा अध्यक्ष मौजूद थे।

अफवाह पर ध्यान न दें, गांधीसागर सुरक्षित: जल संसाधन

मंदसौर जिले के गरोठ-भानपुरा से लगे गांधीसागर बांध को लेकर अफवाह पर ध्यान नहीं देने के लिए कहा है, वर्तमान में गांधीसागर में पानी की आवक जरूर ज्यादा है, लेकिन फिलहाल बांध पूरी तरह सुरक्षित है।

बारिश का कहरः इंदिरा गांधी सागर बांध लबालब, गेट खोले जाने से लोग प्रभावित

प्रदेश में बारिश का कहर लगातार जारी है। सामान्य से करीब 35 फीसदी से ज्यादा बारिश के बाद भी मालवा, ग्वालियर-चंबल व निमाड़ क्षेत्र में अभी भी अनवरत पानी बरस रहा है। मंदसौर क्षेत्र में एक पुल के बारिश में बह जाने की घटना भी सामने आई है जिसे बने हुए अभी दस साल भी नहीं हुए थे। प्रदेश का कोई भी ऐसा बांध नहीं है जो पानी से लबालब नहीं हो सका हो। इंदिरा गांधी सागर बांध के लबालब होने से उसका पानी छोड़ने पर निचली बस्तियों पर कहर ढाने की संभावनाएं हैं और वहां राहत व बचाव कार्य करने वालों को मुस्तैद कर दिया है। बांध को लेकर सोशल मीडिया पर चल रही खबरों का राज्य जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने सोशल मीडिया पर ही सही स्थिति दी। बांध में आने वाले पानी की मात्रा कम होने से स्थिति में सुधार की बात कही है।

नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण ने की मप्र के हितों की अनदेखी: कमलनाथ

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सरदार सरोवर परियोजना में मध्यप्रदेश से संबंधित मुद्दों को तत्काल मैत्रीपूर्वक हल करने के लिए नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण की बैठक बुलाने का आग्रह किया है। कमल नाथ ने केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत को लिखे पत्र में मध्यप्रदेश के हितों की अनदेखी होने की विस्तार से जानकारी दी है।