पाप धोने हनुमान चालीसा पाठ पर्याप्त नहीं, माफी मांगें कांग्रेस और कमलनाथ- संजर

प्रभु श्रीराम के भक्त हनुमान जी अपनी शरण में आए हर व्यक्ति का उद्धार करने में पूर्णत समर्थ हैं, लेकिन कांग्रेस ने पूरे राम मंदिर आंदोलन के दौरान जो पाप किए हैं, उनसे हनुमान चालीसा पाठ भी मुक्ति नहीं दिला सकेगा। इस पाप से मुक्ति के लिए कांग्रेस पार्टी और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को राम लला और देश-प्रदेश की जनता से सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए, जिसकी भावनाओं को कांग्रेस ने लगातार ठेस पहुंचाई है। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता एवं पूर्व सांसद आलोक संजर ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के हनुमान चालीसा पाठ पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही।

संजर ने कहा कि पूरे राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान कांग्रेस पार्टी और उसके नेताओं का रवैया कैसा रहा है, पूरा देश जानता है। अल्पसंख्यक वोट बैंक हथियाने की कोशिश में कांग्रेस पार्टी लगातार राम जन्मभूमि आंदोलन का विरोध करती रही। तथ्यों और प्रमाणों की उपेक्षा करके कांग्रेस ने देश की बहुसंख्यक आबादी की भावनाओं को चोट पहुंचाई। अपने राजनीतिक फायदे के लिए कांग्रेस ने मुलायम सिंह यादव की पार्टी से गठबंधन किया, जिसने निहत्थे कारसेवकों पर गोलियां चलवाई थीं। देश की शीर्ष अदालत में कांग्रेस पार्टी की तत्कालीन मुखिया ने एफिडेविट देकर भगवान राम को काल्पनिक बताकर उनके अस्तित्व पर ही सवाल खड़े कर दिये। कांग्रेस की सरकार ने राम सेतु को ध्वस्त करने की योजना बनाई। एक तरफ जब देश की जनता न्यायालय में चल रहे प्रकरण पर फैसले का टकटकी लगाए इंतजार कर रही थी, तब कांग्रेस के लोग देश की शीर्ष अदालत से जल्द सुनवाई न करने का आग्रह कर रहे थे। कांग्रेस पार्टी ने राम मंदिर के विरोध में वकीलों का पूरा पैनल सुप्रीम कोर्ट में खड़ा दिया था। श्री आलोक संजर ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ को देश-प्रदेश की जनता के सामने यह स्पष्ट करना चाहिए कि कांग्रेस का असली चेहरा कौन सा है? प्रभु श्रीराम के अस्तित्व पर सवाल उठाने वाली कांग्रेस असली थी या ये हनुमान चालीसा पाठ करने वाली कांग्रेस असली है।

         श्री आलोक संजर ने कहा कि कमलनाथ बताएं या न बताएं देश की जनता कांग्रेस के असली चेहरे को पहचान गई है और अब वे हनुमान चालीसा पढ़ें या कुछ और करें, जनता उनके धोखे में नहीं आने वाली।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *