Category Archives: छत्‍तीसगढ

रायपुर: मंत्री गुरु रूद्रकुमार ने त्रिपुरा के राज्यपाल से की सौजन्य भेंट

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं ग्रामोद्योग मंत्री गुरु रूद्रकुमार ने आज अगरतला में त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस से सौजन्य भेंट की।

रायपुर: त्रिपुरा के मुख्यमंत्री राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में होंगे शामिल

छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित किए जा रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में सम्मिलित होने के लिए के त्रिपुरा के मुख्यमंत्री श्री बिप्लब देब ने अपनी सहमति प्रदान कर दी है।

रायपुर: प्रदेश में अब 22 लघु वनोपजों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर होगी खरीदी

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के अनुमोदन उपरांत राज्य शासन द्वारा प्रदेश में वर्ष 2019-20 में 15 लघु वनोपजों के अतिरिक्त सात लघु वनोपजों की भी खरीदी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जाएगी। इस आशय का परिपत्र मंत्रालय (महानदी भवन) स्थित वन विभाग द्वारा आज जारी कर दिया गया है।

रायपुर: प्रदेश में आज 59 हजार 482 मी. टन धान खरीदी

प्रदेश के धान उपार्जन केन्द्रों में 13 दिसम्बर को 59 हजार 482 मीटरिक टन धान की खरीदी की गई है। इसे मिलाकर एक दिसम्बर से आज तक 03 लाख 23 हजार 524 किसानों से 12 लाख 86 हजार 203 मीटरिक टन धान की खरीदी की गई है। अब तक खरीदे धान के विरूद्ध 2 लाख 15 हजार 735 किसानों को 15 सौ 82 करोड़ रूपए का भुगतान सीधे उनके बैंक खातों में कर दिया गया है। 

रायपुर: असम के मुख्यमंत्री को राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का संस्कृति मंत्री ने दिया निमंत्रण

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के लिए भेजे गए निमंत्रण को आज संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने असम के मुख्यमंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल को दिया। भगत ने असम के मुख्यमंत्री से वहां के लोक कलाकारों का दल छत्तीसगढ़ के इस आयोजन में भेजने का आग्रह किया।

मुख्यमंत्री सोनोवाल ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आमंत्रण स्वीकार किया और असम के आदिवासी नर्तक दलों को रायपुर में आयोजित राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में भेजने की सहमति जताई है। श्री भगत ने मुख्यमंत्री सोनोवाल को छत्तीसगढ़ की संस्कृति, पर्यटन और सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बारे में बताया। भगत ने सोनोवाल से असम और छत्तीसगढ़ की विभिन्न मुद्दों पर भी चर्चा की।

रायपुर: स्कूलों में बनेंगे किचन गार्डन

स्कूलों में बच्चों को दिए जाने वाले मध्यान्ह भोजन में उच्च क्वालिटी की सामग्री के उपयोग और ताजी हरी सब्जियां को शामिल करने के निर्देश दिए हैं। संचालक लोक शिक्षण एस. प्रकाश ने आज दुर्ग और राजनांदगांव जिले के आधा दर्जन स्कूलों के औचक निरीक्षण के दौरान सभी स्कूलों में किचन गार्डन विकसित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि मध्यान्ह भोजन में हरी सब्जियां शामिल होने से मध्यान्ह भोजन की पौष्टिकता बढ़ेगी इससे बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास अच्छी तरह से होगा। 

रायपुर: आदिवासी नृत्य महोत्सव ले रहा अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप

राजधानी रायपुर में आगामी 27 दिसम्बर से आयोजित होने वाले आदिवासी नृत्य महोत्सव अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप ले रहा है। इसमें देश के 23 राज्यों के साथ ही युगांडा, बेलारूस, श्रीलंका और बांग्लादेश सहित छह देशों के अंतर्राष्ट्रीय लोक कलाकार जनजातीय लोक संस्कृति की छटा बिखेरेंगे। छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का शुभारंभ समारोह भव्य और आकर्षक होगा। शुभारंभ अवसर पर देश-विदेश से आने वाले कलाकार अपने पारम्परिक परिधानों में मार्च पास्ट करेंगे।

रायपुर: मुख्यमंत्री ने मड़वा में किया सतनाम धर्मशाला का लोकार्पण

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के अंतर्गत गिरौदपुरी धाम के समीप मड़वा गांव में प्रगतिशील सतनामी समाज द्वारा निर्मित सतनाम धर्मशाला का लोकार्पण किया। धर्मशाला का निर्माण लगभग ढाई करोड़ रुपये की लागत से समाज के लोगों द्वारा आपसी सहयोग से किया गया है।

रायपुर: किसानों से हर हाल में खरीदेंगे प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के किसानों को आश्वस्त किया है कि राज्य सरकार हर हाल में किसानों से प्रति एकड़ 15 क्विंटल के मान से धान की खरीदी करेगी, इसके लिए चाहे धान खरीदी का समय बढ़ना पड़े या धान खरीदी किश्तों की संख्या। मान लीजिए तीन फेरी में या पांच फेरी में जमा करना है, तो यदि आवश्यकता पड़ती है तो इसकी संख्या बढ़ाई जाएगी। समितियां अपने यहां कांटा बाट, हमालों की संख्या आदि क्षमता के अनुसार धान खरीदी सुनिश्चित करेंगी।

रायपुर: छत्तीसगढ़ की पारंपरिक लोक-कलाओं की पहचान शबरी एंपोरियम

छत्तीसगढ़ की पारंपरिक लोक कलाओं की पहचान शबरी एंपोरियम बन गया है। छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड द्वारा प्रदेश के जिलों के द्वारा उत्पादित हस्तशिल्प सामग्रियों को संग्रहण के माध्यम से क्रय कर शिल्प सामग्री का विक्रय एवं शिल्पकारों के उत्पादों को कंसाइनमेंट के अंतर्गत शबरी एंपोरियम में विक्रय की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है।