श्रीहरि नटराज तैराकी प्रतियोगिता

तैराकी में रिकॉर्ड दर्ज कराने वाले श्रीहरि नटराज और सलोनी दलाल तथा स्‍वदेश मंडल, वेदांत बापना, अद्वैत पागे खेलो इंडिया स्‍कूल गेम्‍स में डा. श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी तरणताल में 35 स्‍वर्ण पदकों को हासिल करने की प्रतिस्‍पर्धा में शामिल हो गए हैं।

 तैराकी 16 प्रतियोगिताओं का हिस्‍सा है और इसमें कड़ी प्रतिस्‍पर्धा की संभावना है। रायना सल्‍डाना, केनीशा गुप्‍ता, आस्‍था चौधरी, प्रियांगा पूगाजरासू, मयूरी लिंगराज, फिरदौस कायमखानी और अनुभूति बरूआ अन्‍य तैराक हैं जिनके शानदार प्रदर्शन करने की संभावना है। केन्‍द्रीय युवा मामले और खेल राज्‍य मंत्री कर्नल राज्‍यवर्द्धन सिंह राठौर ने खेलों की शुरूआत के बारे में कहा, ‘ हम इन खेलों के लिए हमें देश भर से बहुत अच्‍छी प्रतिक्रिया मिल रही है।’ ये गेम्‍स 8 फरवरी तक चलेंगे।  श्रीहरि नटराज सभी तीन बैक स्‍ट्रोक दौड़ों- 50 मीटर, 100 मीटर और 200 मीटर में राष्‍ट्रीय रिकॉर्ड बना चुके हैं। कर्नाटक का यह लड़का जय हिंद कॉलेज बेंगलुरू का प्रतिनिधित्‍व कर रहा है और इसे प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्‍ठ पुरूष तैराक घोषित किया गया है क्‍योंकि वह चार स्‍वर्ण और तीन मीट रिकॉर्डों के लिए सम्‍पूर्ण चैम्पियनशिप में अपने राज्‍य का नेतृत्‍व कर रहा है  महान तैराक माइकल फैल्‍प्‍स के मुरीद श्रीहरि का कहना है कि वे खुद अपना लक्ष्‍य तय करना चाहते हैं और उनकी निगाहें इस वर्ष नवम्‍बर में ब्‍यूनस आयर्स में होने वाले यूथ ओलम्पिक और उसके बाद 2020 के तोक्‍यो ओलम्पिक पर टिकी हुई हैं। उनका दीर्घकालिक लक्ष्‍य पेरिस में 2024 में होने वाले ओलम्पिक में पदक जीतना है। तैराकी प्रतियोगिता में कर्नाटक का मजबूत प्रतिनिधित्‍व है। सलोनी दलाल 200 मीटर की ब्रेस्‍टस्‍ट्रोक प्रतियोगिता में अपने राष्‍ट्रीय रिकॉर्ड को बेहतर करना चाहती हैं। केरल में 2015 में हुए राष्‍ट्रीय खेलों में सलोनी सबसे कम उम्र की पदक विजेता थीं। उन्‍होंने 12 वर्ष की उम्र में प्रतियोगिता में कांस्‍य पदक जीता था और तब से वह लगातार तेजी से आगे बढ़ रही हैं। वह पहले दी दो बार अपना राष्‍ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ चुकी हैं। पीकेडी मेट्रिक हायर सेकंडरी स्‍कूल का प्रतिनिधित्‍व कर रही सलोनी दलाल अपनी प्रतिद्वंदी लियान फातेमा से सजग हैं जो उन्‍हें अच्‍छी टक्‍कर दे सकती हैं। माइकल फैल्‍प्‍स को अपना आदर्श मानने वाली सलोनी प्रकाश अरूमुगम की देखरेख में अपने कठिन परिश्रम से 2020 और 2024 के ओलम्पिक खेलों में अपने लिए स्‍थान बनाना चाहती हैं। 14 वर्ष से कम आयु वर्ग में मंडल सर्वश्रेष्‍ठ तैराक हैं। वह पांच राष्‍ट्रीय स्‍वर्ण पदक हासिल कर चुके हैं और 200 मीटर (2:15:46), 200 मीटर बटरफ्लाई (2:28:28) और 400 मीटर आईएम (4:49:58) में रिकॉर्ड बना चुके हैं। बंगाल के एक छोटे से कस्‍बे चम्‍पाहाती में रहने वाले मंडल ने बेहतर सुविधाओं के लिए नई दिल्‍ली स्थित एसएआई प्रशिक्षण अकादमी को चुना और हैड कोच पार्थ प्रतिम मजूमदार से प्रशिक्षण प्राप्‍त किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *