रजत पदक जीती कुमारी पायल

बारहवीं कक्षा में पढ़ रही छिंदवाड़ा जिले के परासिया विकासखंड के ग्राम झुर्रेमाल की कुमारी पायल सल्लाम प्रदेश का गौरव बन गई है। पायल ने मलेशिया में 14 से 18 दिसंबर 2017 तक आयोजित 43वीं गोशिन रियू अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैम्पियनशिप-2017 में भाग लिया। इस चैम्पियनशिप में पायल ने व्यक्तिगत काता स्पर्धा (ब्लेक बेल्ट वर्ग) में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुये रजत पदक जीतकर अंतर्राष्ट्रीय क्षितिज पर अपनी एक अलग पहचान बनाई है। पायल की प्राथमिक शिक्षा शासकीय प्राथमिक शाला ग्राम झुर्रेमाल में हुई। छिन्दवाड़ा जिले के आदर्श शासकीय कन्या शिक्षा परिसर में कक्षा छठवीं में प्रवेश मिलने के बाद पायल के जीवन में बदलाव आया। इस शाला में अंतर्राष्ट्रीय कोच ब्लेक बेल्ट 5 डॉन डिग्री एवं विभागीय कराटे प्रशिक्षक राजेन्द्र सिंह तोमर से पायल ने कराटे का प्रशिक्षण लेना प्रारंभ किया और लगातार 4 वर्षो के गहन प्रशिक्षण के बाद उसे फेडरेशन ब्लेक बेल्ट की उपाधि मिली। पायल के सामने अब खुला आसमाँ था, तो उसने उड़ान भरना शुरू किया। वर्ष 2015 में अंतर्राष्ट्रीय कराटे स्पर्धा में भाग लेकर कांस्य पदक प्राप्त किया, वर्ष 2016 में कर्नाटक (मेंगलोर) में आठवीं गोशिन रियू नेशनल कराटे चैम्पियनशिप में भी दो स्वर्ण पदक प्राप्त किये। वर्ष 2016 में ही शहडोल में आयोजित 11वीं ओपन स्टेट कराटे चैम्पियनशिप में दो स्वर्ण पदक लेने के बाद पायल ने वर्ष 2017 में म.प्र.कराटे एसोसिएशन द्वारा भोपाल में जनवरी में आयोजित म.प्र.राज्य कराटे प्रतियोगिता में एक स्वर्ण और एक रजत पदक और जुलाई में आयोजित 9वीं नेशनल कराटे चैम्पियनशिप 2017 में दो स्वर्ण पदक प्राप्त किये। कुमारी पायल सल्लाम को मध्यप्रदेश शासन ने विभागीय खर्च पर मलेशिया भेजा था। कुमारी पायल की प्रतिभा को देखते हुये जनजातीय कल्याण विभाग द्वारा उसे वर्ष 2015 और 2016 में उत्कृष्ट खिलाड़ी के सम्मान के साथ ही 10 हजार रूपये की पुरस्कार राशि, प्रशस्ति पत्र और ट्रॉफी भी प्रदान की गई। प्रतिभाशाली खिलाड़ी कुमारी पायल की उपलब्धियों से छिन्दवाड़ा जिला गौरवान्वित हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *