मतदाता सूचियों में त्रुटि की कोई गुंजाईश नहीं

मतदाता सूचियों में किसी त्रुटि या फर्जी मतदाताओं के नाम होने की कोई गुंजाइश नहीं है। मतदाता सूची के बारे में बोगस वोटर होने की कोई संभावना नहीं है। हां, ये जरूर है कि डुप्लीकेट वोटर्स हो सकते हैं और उनको पूरे वेरिफिकेशन के बाद डिलीट करने का काम बहुत तेजी से चल रहा है और जहां इलेक्शन आते हैं जिन स्टेट्स में जैसे मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मिजोरम इनमें  ये काम हम इलेक्शन के पहले पूरा कर लेते हैं, तो इसलिए ऐसी शिकायत के लिए कमीशन खुद ही कोई गुंजाइश नहीं छोड़ता है कि मतदाता सूची में किसी भी तरह का कोई भी डिफेक्ट बना रहे। मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त की इस टिप्‍पणी से पहले उच्‍चतम न्‍यायालय ने आज कांग्रेस नेता कमलनाथ और सचिन पायलट की दो अलग अलग याचिकाएं खारिज कर दीं। याचिकाओं में निर्वाचन आयोग को मध्‍यप्रदेश और राजस्‍थान में मसौदा मतदाता सूची उपलब्‍ध कराने का निर्देश देने की मांग की गई थी। उच्‍चतम न्‍यायालय ने इन नेताओं की याचिका पर 8 अक्‍टूबर को फैसला सुरक्षित रखा था। मध्‍यप्रदेश में विधानसभा चुनाव 28 नवम्‍बर को और राजस्‍थान में 7 दिसम्‍बर को होना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *