भोपाल की हरियाली खतरे में, 11 फीसदी वन ही बचे

भोपाल की हरियाली को लेकर इंडियन इस्टीट्यूट ऑफ साइंस की रिपोर्ट की माने तो भोपाल की स्थिति बहुत ही नाजुक है। भोपाल में मात्र ग्यारह फीसदी वन बचे हुए है। टीवी रामचंद्रन ने इंडिया के चार शहर भोपाल कोलकाता हैदराबाद और अहमदाबाद में बढ़ते हुए शहरीकरण को लेकर कुछ सालों से रिसर्च कर रहे थे। उन्होंने अपने अध्ययन में पाया कि भोपाल शहर में इन तीनो शहरों के मुताबिक सबसे ज्यादा शहरीकरण हुआ है। गौरतलब है कि भोपाल 1992 तक देश के सबसे अधिक हरियाली वाले शहरों की सूची में शुमार था। उस समय भोपाल में 67 फीसदी पेड़ थे …लेकिन 2018 में मात्र 11 फीसदी पेड़ बचे हुए है उन्होंने दावा किया है कि अगर भोपाल में डी फॉरेस्टीकरन का यही सिलसिला चलता रहा तो भोपाल में वर्ष 2026 में केवल चार फीसदी पेड़ बचे रहेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *