पंजीयन विभाग के कर्मचारियों द्वारा दस्तावेजों का ई-पंजीयन

पंजीयन विभाग द्वारा जिला कार्यालयों के माध्यम से दस्तावेजों का ई-पंजीयन किया जा रहा है। जिला कार्यालयों में इसके लिये प्रति-दिन स्लाट बुक होते हैं। प्रदेश में दस्तावजों का ई-पंजीयन का कार्य एक अगस्त 2015 से किया जा रहा है। इसके लिये कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिलवाया गया है।

संपदा परियोजना प्रणाली में रख-रखाव के कारण 5 जनवरी 2018 को दस्तावेजों का पंजीयन का कार्य नहीं हुआ। अगले दिन 6 जनवरी को प्रदेश भर में जिला पंजीयन कार्यालयों के माध्यम से 3,725 दस्तावेजों का पंजीयन किया गया। कार्यालय उप महानिरीक्षक पंजीयन परिक्षेत्र भोपाल ने 5 जनवरी को दस्तावेजों का ई-पंजीयन न हो पाने के कारण आमजन की सुविधा के लिये रविवार 7 जनवरी को सभी जिला कार्यालय खुलवाये। इस दिन 590 स्लाट बुक किये गये, जिनमें से 507 दस्तावेजों का पंजीयन किया गया। पूर्व में लम्बित दस्तावेजों को मिलाकर रविवार को 664 दस्तावेजों का ई-पंजीयन किया गया।भोपाल शहर में ही रविवार 7 जनवरी के दिन दस्तावेजों के ई-पंजीयन के लिए 84 स्लाट बुक किये गये थे। इनमें से 77 दस्तावेजों का ई-पंजीयन किया गया। साथ ही पूर्व में लम्बित दस्तावेजों को मिलाकर रविवार को 106 दस्तावेजों का पंजीयन किया गया। भोपाल में कुछ समय के लिये स्वॉन की कनेक्टिविटी उपलब्ध नहीं थी, जो एम.पी.एस.ई.डी.सी. के माध्यम से उपलब्ध करवाई जाती है। रविवार के दिन 7 जनवरी को दोपहर 12.30 बजे के बाद सुचारू रूप से दस्तावेजों का ई-पंजीयन प्रारंभ किया गया।प्रदेश में दस्तावेजों का ई-पंजीयन का कार्य ग्लोबल कम्पनी के माध्यम से किया जा रहा था। 5 जनवरी के बाद अब केवल पंजीयन विभाग से जुड़े कर्मचारियों द्वारा ही दस्तावेजों के ई-पंजीयन की सम्पूर्ण कार्यवाही की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *