दसवीं पास सोनू दे रहा है दूसरों को रोजगार

पढ़-लिखकर नौकरी की तलाश में समय गंवाने की बजाए स्वयं का रोजगार स्थापित करना ज्यादा उचित समझा सोनू अहिरवार ने। मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना का लाभ उठाकर राईस मिल स्थापित कर सोनू न केवल आत्मनिर्भर हुआ है, बल्कि वह अन्य 3 व्यक्तियों को रोजगार भी दे रहा है। सोनू अहिरवार के पास न तो कृषि भूमि थी और न ही कोई पैतृक व्यवसाय, जिससे वह अपना जीविकोपार्जन कर पाता। मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में ऋण प्राप्त कर दसवीं पास सोनू अब राईस मिल का मालिक है।

सोनू ने बताया कि मिल चालू होने के शुरूआती महीनों में ही बैंक की किश्त, कर्मचारियों का वेतन एवं मिल के समस्त खर्चों को निकालकर लगभग 25 हजार रूपए महीने से अधिक की बचत हो रही है। सोनू को उम्मीद है कि आने वाले समय में उसका कारोबार और बढ़ेगा। सोनू ने बताया कि 15 से 20 क्विंटल धान अभी प्रतिदिन आ रही है।रायसेन के वार्ड क्रमांक-18 संजय नगर निवासी श्री सोनू अहिरवार ने बताया कि उसे समाचार पत्र के माध्यम से पता चला कि वह भी मुख्यमंत्री द्वारा अनुसूचित जाति वर्ग के लिए संचालित स्वरोजगार योजना के अंतर्गत ऋण प्राप्त कर स्वयं का रोजगार स्थापित कर सकता है। अगले दिन सोनू ने जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति के कार्यालय में जाकर अंत्यावसायी अधिकारी से पूरी जानकारी ली और स्वयं का रोजगार स्थापित करने का निर्णय लिया।सोनू ने इससे पहले विभिन्न रोजगारों के बारे में जानकारी ली और कई अनुभवी लोगों से चर्चा की। सोनू ने रायसेन जिले में तेजी से बढ़ रहे धान के उत्पादन को ध्यान में रखते हुए राईस मिल लगाने का निर्णय लिया। सोनू ने अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति के कार्यालय में 10 लाख रूपए के ऋण के लिए आवेदन दिया। अंत्यावसायी अधिकारी द्वारा 10 लाख रूपए का ऋण स्वीकृत किया गया। सेंट्रल बैंक ने सोनू को 10 लाख रूपए का ऋणदिया। इसमें दो लाख रूपए की अनुदान राशि सरकार की ओर से दी गई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *