किसान परंपरागत खेती से जैविक की ओर बढ़ें

राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने किसानों से चर्चा करते हुए कहा कि किसान परंपरागत खेती से जैविक खेती की ओर बढ़ें। रासायनों के बढ़ते उपयोग से मिट्टी पर दुष्प्रभाव के साथ उत्पादन भी प्रभावित होने लगा है। उन्होंने कहा कि किसान परंपरागत खेती से धीरे-धीरे निकलें और जैविक खेती को अपनाएँ। केंद्र और राज्य सरकार भी जैविक उत्पादों के अच्छे मूल्य दिलाने के लिए प्रयास कर रही है। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल शुक्रवार को देवास जिले में सोनकच्छ तहसील के ग्राम अरनिया जागीर में किसानों से चर्चा कर रहीं थी। इस अवसर पर उन्होंने प्रगतिशील कृषक नारायणसिंह के फार्म पर आधुनिक पद्धतियों से की जा रही संरक्षित एवं जैविक खेती का अवलोकन किया तथा दूसरे किसानों को भी इससे प्रेरणा लेकर जैविक खेती अपनाने का आग्रह किया।
राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि किसान रासायनिक उर्वरकों का कम से कम उपयोग करें। मिट्टी का परीक्षण कराकर जिन तत्वों की आवश्यकता खेत की मिट्टी को है केवल उन्हीं उर्वरकों को जरूरत अनुसार उपयोग करें।

राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि एक किसान को व्यापारी की भांति भी सोचना चाहिए और अपने खेती का हर साल का हिसाब किताब भी रखना चाहिए। उन्होंने किसानों से इसके लिए वार्षिक रजिस्टर बनाने का आग्रह किया और कहा कि रजिस्टर रखने से किसान सही मायने में फसल से होने वाले नुकसान या फायदे के संबंध में जानकारी प्राप्त कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि अक्सर क्षेत्र विशेष के सभी किसान देखा-देखी में एक ही फसल सभी खेतों में बोते हैं जिससे फसल विशेष की अधिक पैदावार होने से फसल के अच्छे दाम नहीं मिलते। यदि किसान भिन्न-भिन्न फसलें बोये तो यह स्थिति नहीं बनेगी और किसानों को अच्छे दाम मिल सकेंगे।

राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल ने किसानों से वन-टू-वन चर्चा की तथा खेती के संबंध में उनके अनुभव सुने। प्रगतिशील किसान श्री नारायण सिंह ने बताया कि प्रति एकड़ 70 हजार रुपए लागत आती है और एक लाख 30 हजार रुपए का मुनाफा हो जाता है।अन्य किसानों ने भी अपने अनुभव सुनाये।

जामगोद में सोलर पंप का किया अवलोकन

राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल ने ग्राम जामगोद में राहुल पिता मुरारीलाल के खेत में सोलर पंप का अवलोकन किया। इस दौरान हितग्राही ने बताया कि यह सोलर पंप मप्र ऊर्जा विकास निगम ने सब्सीडी से लगाया गया है। ऊर्जा विकास निगम द्वारा 85 प्रतिशत सब्सीडी दी गई है। उन्हें केवल 72 हजार रुपए खर्च करने पड़े।

इस अवसर पर विधायक सोनकच्छ श्री राजेंद्र वर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री नरेंद्र सिंह राजपूत और अन्य जनप्रतिनिधि एवं प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे। जिला चिकित्सालय में सी.टी. स्केन मशीन व क्षिप्रा में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का लोकार्पण राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन ने जिला चिकित्सालय देवास में सी.टी. स्केन मशीन का शुभारंभ किया तथा क्षिप्रा में नगर निगम देवास द्वारा यूआईडीएसएसएमटी योजना अंतर्गत निर्मित 22 एमएलडी क्षमता के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का लोकार्पण किया। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के फिल्टरों का भी अवलोकन किया। आयुक्त विशाल सिंह ने बताया कि नर्मदा-क्षिप्रा लिंक परियोजना से वाटर ट्रीटमेंट प्लांट को पानी आपूर्ति की जा रही है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *